what is stop loss

जानिये शेयर मार्केट में स्टॉप लोस कैसे लगाया जाता है

शेयर बाज़ार, करेंसी बाज़ार अथवा कमोडिटी बाज़ार में स्टॉपलॉस की बड़ी महत्वपूर्ण भूमिका होती है। यह एक ट्रेडर के लिए लाइफलाइन का काम करता है। 

स्टॉपलॉस की मदद से एक ट्रेडर अपने जोखिम को सीमित रख सकता है। इस पोस्ट के माध्यम से स्टॉपलॉस के बारे में विस्तृत जानकारी दी गयी है।

डाउनलोड करे शेयर मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे शेयर मार्केट में किया जाता है काम

Stoploss क्या है।

Stop loss शेयर बाज़ार में सुरक्षा के मेकैनिज्म के तौर पर काम करता है जिसकी बदौलत एक ट्रेडर शेयर बाज़ार में अपने आप को सुरक्षित महसूस करता है, और शेयर बाज़ार में होने वाली बड़ी हानि से खुद को बचाने में सफल हो जाता है|
जब आप किसी स्टॉक में अपनी पोजीशन बनाते है तो आप किसी अनुमान पर ट्रेड करते है परन्तु यह निश्चित नहीं होता है कि उक्त सौदे में आपको लाभ होगा अथवा हानि, ऐसी स्थति में स्टॉपलोस एक अच्छे विकल्प का काम करता है|

डाउनलोड करे शेयर मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे शेयर मार्केट में किया जाता है काम

स्टॉपलोस के फायदे यदि आप प्रत्येक सौदे में स्टॉपलोस का इस्तेमाल करेंगे और उसके लिए अपने लाभ और हानि का अनुपात सही स्थति में रखेंगे | तो आप हमेशा स्टॉक मार्किट में लाभ बनाते रहेंगे|
जिसके लिए एक उदहारण इस प्रकार है|
मान लीजिये आप 1:2 के रिस्क रिवॉर्ड के साथ ट्रेडिंग करते है| जोकि 2 रुपए के लाभ के लिए 1 रुपए का नुकसान अथवा जोखिम माना जायेगा| इस स्थति में आपके दस ट्रेड में से 5 ट्रेड में आपको नुक्सान होता है और पाच ट्रेड में लाभ होता है| क्योंकि आपका रिस्क रिवॉर्ड रेश्यो 1:2 में है| तो आपके लाभ और हानि का कुल विवरण इस प्रकार होगा|
कुल ट्रेड किये   – 10 लाभ वाले ट्रेड   – 5 x 2 =10  हानि वाले ट्रेड  – 5 x 1 =  5 
आपके 50 प्रतिशत सही ट्रेड भी आपको लाभ दे सकते है और इसके लिए आपको स्टॉपलोस की आवश्यकता होगी|

Stoploss कैसे लगाये 

स्टॉपलोस का इस्तेमाल दो तरीके से किया जा सकता है|
1. यदि आपके पास पहले से ही कुछ शेयर है जिन्हें आपने खरीद अथवा बेच रखा है उन शेयर के लिए आप स्टॉपलोस लगा सकते है| और अपने जोखिम को सिमित रख सकते है|
2. आप स्टॉपलोस की मदद से कोई शेयर खरीद अथवा बेच भी सकते है मान लीजिये कोई x कंपनी का शेयर 100 रुपए पर ट्रेड कर रहा है और आपको लगता है की उक्त शेयर यदि 101 रुपए के स्तर को तोड़ता है तो उसमे बड़ी तेज़ी आ सकती है तो आप एक स्टॉपलोस आर्डर की मदद से 101 रुपए के ट्रिगर प्राइस के साथ एक आर्डर डाल देंगे, अब जैसे ही स्टॉक 101 रुपए के स्तर पर पहुचेगा तो आपका आर्डर एक्सीक्यूट हो जायेगा| 

डाउनलोड करे शेयर मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे शेयर मार्केट में किया जाता है काम


शेयर बाज़ार में कितने ही ट्रेडर इस रणनीति का इस्तेमाल करते है जो किसी स्टॉक के रेजिस्टेंस अथवा सपोर्ट को ध्यान में रखते हुए स्टॉपलोस आर्डर के माध्यम से अपनी ट्रेड पहले से ही डालकर रखते है जैसे ही कोई स्टॉक अपने सपोर्ट अथवा रेजिस्टेंस को तोड़ता है तो उनकी द्वारा डाले गए आर्डर एक्सीक्यूट हो जाते है और मुनाफा मिलने की सम्भावना बढ़ जाती है|

स्टॉपलोस सभी सेगमेंट में इस्तेमाल किये जा सकते है शेयर बाज़ार, कमोडिटी बाज़ार अथवा करेंसी बाज़ार में भी इनका इस्तेमाल किया जाता है|

Connect With Us
Facebook
Facebook
Instagram
LinkedIn
Tags: No tags

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *