commodity trading

जानिये क्या है Commodity Trading और कैसे होता है कमोडिटी ट्रेडिंग में काम !!

जिस तरह शेयर बाजार में खरीद-फरोख्‍त की जाती है उसी तरह कमोडिटी बाजार में भी खरीद-फरोख्‍त की जाती है। इसके बावजूद कमोडिटी या वायदा बाजार शेयर बाजार से थोड़ा अलग होता है। Commodity market भी share market की ही तरह है, बस यहाँ पर शेयर की जगह commodities को खरीदा या बेचा जाता है।

डाउनलोड करे कमोडिटी मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे कमोडिटी मार्केट में किया जाता है काम

कमोडिटीज ट्रेडिंग की विधि‍वत शुरुआत बॉम्‍बे कॉटन ट्रेड एसोशिएशन ल‍िमि‍टेड के साथ 1875 में हुई थी और इसी का अनुसरण करते हुए 1900 में गुजराती व्‍यापारी मंडली का भी गठन हुआ, जिससे कि बादाम, बीज और कपास के व्‍यापार को और अधिक बढ़ाया जा सके।

कमोडिटी बाजार में मुख्‍य रूप से रॉ मटेरियल्‍स (कच्‍चा माल) का आदान-प्रदान होता है। कमोडिटी की अवधारणा को बेहतर तरीके से समझने के लिए हम ये उदाहरण ले स‍‍कते है कि अगर कोई कुर्सी जो किसी के बैठने के लिए बनाई गई हो या वो कोई भी वस्‍तु जो किसी के काम आती हो उसकी ट्रेडिंग ही कमोडिटी क‍हलाती है। वो कोई भी वस्‍तु कमोडिटी मार्केट में नहीं आती, जिसका उत्‍पादन किसी रुचि या शौक को पूरा करने के लिए किया गया हो।

डाउनलोड करे कमोडिटी मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे कमोडिटी मार्केट में किया जाता है काम

इसलिए यह‍ कहा जा सकता है कि उपयोग में लाई जाने वाली हर वस्‍तु कमोडिटी के अंतर्गत आती है। Commodity market में डिलीवरी होती है, पर ज़्यादातर लोग डिलीवरी न लेकर दुबारा से सामान को Commodity market में ही बेच देते है। इस market में सामान के पैसे current condition के हिसाब से लगते है, चाहे डिलीवरी कभी भी लो या न लो।

कमोडिटी बाजार में उत्‍पाद की गुणवत्‍ता पर ध्‍यान नहीं दिया जाता बल्कि माँग की आपूर्ति अधिक महत्‍वपूर्ण होती है। इस बाजार में क्‍वालिटी महत्‍व नहीं रखती है। यहाँ सिर्फ खरीद-फरोख्‍त होती है बस। 
आधुनिक कमोडिटी बाजार की जड़ें कृषि उत्‍पादों के व्‍यापार में हैं। 19वीं सदी में अमेरिका में गेहूँ, चना आदि‍ का बड़े पैमाने पर व्‍यापार किया जाता था, लेकिन सोयाबीन जैसे अनाज को अभी-अभी कमोडिटी बाजार में शामिल किया गया है।

डाउनलोड करे कमोडिटी मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे कमोडिटी मार्केट में किया जाता है काम

Commodity Trading Exchanges के बारे में जाने :

कमोडिटी ट्रेडिंग शुरू करने के लिए एक ट्रेडर्स  के लिए पहला कदम यह जानना है कि किन एक्सचेंजों में कमोडिटी ट्रेडिंग  होती है।

भारत में, राष्ट्रीय कमोडिटी एंड डेरिवेटिव एक्सचेंज (एनसीडीईएक्स or NCDEX), नेशनल मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड (एनएमसीई or NMCE) और मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड (एमसीएक्स or MCX) पर कमोडिटी की ट्रेडिंग होती है। भारत में इन एक्सचेंजों में  कमोडिटी ट्रेडिंग ऑनलाइन की जाती है।

डाउनलोड करे कमोडिटी मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे कमोडिटी मार्केट में किया जाता है काम

Commodity Trading का टाइम

Commodity trading हफ्ते में 5 दिन, Monday से Friday तक होती है। इसकी शुरुआत सुबह 10 बजे से रात 11:30 तक चलती है। Agriculture commodity सुबह 10 से शाम 5 तक होती है। Commodity market शेयर market के मुकाबले ज़्यादा टाइम चलती है तो इसमें trading करना आसान होता है। Metal, Gold, Silver और crude oil के price शाम को European और American commodity market खुलने के साथ तेज़ी से ऊपर नीचे होते है। क्युकी ये देर रात तक चलती है तो नौकरी करने वाले लोग भी शाम को trading कर सकते है।

Connect With Us
Facebook
Facebook
Instagram
LinkedIn
Tags: No tags

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *