भारत के सबसे सफल इन्वेस्टर्स की कहानियाँ , जिन्होंने स्टॉक मार्केट से अरबों-खरबों कमाए !!

बाज़ार में किसी भी तरह से निवेश करने वाले लोग जानना चाहते हैं कि यह फायदे का सौदा रहेगा या नहीं। चाहे वो शेयर मार्केट में निवेश करें, रेकरिंग डिपॉज़िट खाते में निवेश करें या म्यूचुअल फंड्स में निवेश करें, सही समय पर सही जगह लगाया पैसा बेहतर निवेश दिलाता ही है। किसी भी तरह के निवेश की सफलता जानने के लिए हम पहले से निवेश कर रहे लोगों के उदाहरण लेते हैं, जिन्होंने बाज़ार में निवेश करके अच्छा रिटर्न कमाया हो। स्टॉक मार्केट की बात करें, तो हमारे पास कुछ ऐसे नाम हैं, जिन्हें स्टॉक मार्केट में निवेश करने वाले सबसे ज़्यादा सफल लोगों की श्रेणी में रखा जा सकता है। हम आपको ऐसे ही कुछ चुनिंदा लोगों के बारे में बताएंगे। 

डाउनलोड करे शेयर मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे शेयर मार्केट में किया जाता है काम

#1. राकेश झुनझुनवाला, 58 साल 
फरवरी 2018 के आंकड़ों के मुताबिक राकेश की कुल संपत्ति 240 करोड़ डॉलर यानी करीब 1.68 खरब रुपए है। चार्टर्ड अकाउंटेंट (CA) की पढ़ाई करने वाले राकेश पेशे से व्यापारी, फिल्म प्रड्यूसर और निवेशक हैं। इन्हें ‘भारत के वॉरेन बफेट’ और ‘दि बिग बुल’ के नाम से जाना जाता है। एक इनकम टैक्स ऑफिसर के बेटे राकेश ने अपनी CA की पढ़ाई के बाद स्टॉक मार्केट का रुख किया। 5000 रुपए से अपने निवेश की शुरुआत करने वाले राकेश आज डेढ़ खरब से ज़्यादा की संपत्ति के मालिक हैं। इनकी फर्म का नाम RARE Enterprises है और वह हंगामा डिजिटल मीडिया एंटरटेन्मेंट प्राइवेट लिमिटेड के मालिक हैं। 

उन्हें पहला सबसे बड़ा रिटर्न तब मिला, जब उन्होंने टाटा टी के 5000 शेयर बेचे थे। राकेश ने टाटा टी के शेयर तब खरीदे थे, जब एक शेयर की कीमत 43 रुपए थी, लेकिन जब राकेश ने ये शेयर बेचे, तब तक एक शेयर की कीमत 143 रुपए हो चुकी थी। राकेश ने 2003 में टाइटन के 6 करोड़ शेयर खरीदे थे। उस समय टाइटन के एक शेयर की कीमत 3 रुपए थी। टाइटन के स्टॉक आज भी राकेश के पोर्टफोलियो में हैं और फरवरी 2018 में टाइटन के एक शेयर की कीमत 835 रुपए थी। राकेश वॉरेन बफेट के तौर-तरीकों में यकीन रखते हुए लॉन्ग-टर्म निवेश करते हैं। 2016 में फोर्ब्स ने राकेश को भारत का 53वां सबसे अमीर शख्स बताया था। 

डाउनलोड करे शेयर मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे शेयर मार्केट में किया जाता है काम



#2. राधाकिशन धमनी, 61 साल 
फरवरी 2018 के आंकड़ों के मुताबिक राधाकिशन की कुल सपंत्ति 7 अरब डॉलर यानी करीब पांच खरब रुपए थी। राधा पेशे से निवेशक, स्टॉक ब्रोकर, ट्रेडर और Dmart के संस्थापक और प्रमोटर हैं। अपने सादे और हमेशा सफेद कपड़ पहनने की वजह से इन्हें ‘मिस्टर वाइट ऐंड वाइट’ के नाम से जाना जाता है। वह एक और खरबपति राकेश झुनझुनवाला के मेंटर भी हैं। राधा सार्वजनिक रूप से या किसी प्रेस कॉन्फ्रेंस में बहुत ही कम नज़र आते हैं। 21 मार्च 2017 को Avenue supermart1 (Dmart की पैरंट कंपनी) के स्टॉक की कीमत दोगुने से भी ज़्यादा बढ़ गई। यह 299 रुपए प्रति शेयर से 116% बढ़कर 648 रुपए प्रति शेयर हो गई थी। 

डाउनलोड करे शेयर मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे शेयर मार्केट में किया जाता है काम

इस बढ़त ने राधाकिशन को सिर्फ दो दिनों में 6100 करोड़ से भी ज़्यादा का मालिक बना दिया था। Avenue supermart1 के 52% हिस्से का मालिकाना हक राधाकिशन के पास है। इसके अलावा उन्होंने Bright Star Investments में निवेश कर रखा है, जिसमें उनकी 16% की हिस्सेदारी है। इनकी सबसे खास बात यह बताई जाती है कि इनका शुरुआत से शेयर मार्केट में आने की कोई योजना नहीं थी। स्टॉक मार्के में इन्होंने 32 साल की उम्र में कदम रखा था। इससे पहले वह Ball Bearing का बिजनेस करते थे, लेकिन पिता की मौत के बाद वह यह व्यापार बंद करके अपने भाई के साथ शेयर ब्रोकिंग के बिजनेस में आ गए। कुछ गलतियां करने और मार्केट को समझने के बाद उन्होंने खुद निवेश करना शुरू किया और आज नतीजा सबके सामने है। 

डाउनलोड करे शेयर मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे शेयर मार्केट में किया जाता है काम


#3. रमेश धमनी, 61 साल 
फरवरी 2018 के आंकड़ों के मुताबिक राकेश की कुल संपत्ति 1.24 अरब डॉलर यानी करीब 86 अरब रुपए थी। कॉमर्स से पढ़ाई करने वाले रमेश ‘रमेश धमनी फाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड’ के मालिक हैं। शेयर मार्केट में रमेश ने 1990 के दशक में शुरुआत की थी, जब सेंसेक्स 600 पॉइंट्स पर था। वह 1989 में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) के सदस्य बने। उन्होंने सोचा था कि वह स्टॉक ब्रोकर बनेंगे, लेकिन मार्केट में रहते हुए उन्होंने धीरे-धीरे फायदा देने वाले स्टॉक की पहचान करना सीख लिया और फिर लॉन्ग-टर्म इन्वेस्टर बन गए। 

डाउनलोड करे शेयर मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे शेयर मार्केट में किया जाता है काम

उनका पहला चर्चित निवेश इन्फोसिस में किया निवेश था। इन्फोसिस 1993 में पब्लिक हुई थी और रमेश ने अंदाज़ा लगा लिया कि यह कंपनी आगे चलकर बड़ा मुनाफा कमाने वाली है। 1993 में रमेश ने इन्फोसिस में 10 लाख रुपए का निवेश किया और 1999 तक उनका यह निवेश उन्हें 100 गुना से ज़्यादा रिटर्न दे चुका था। निवेश करने वालों के लिए रमेश का मंत्र है कि अगर स्टॉक की कीमत दोगुनी होती है, तो इसका यह मतलब नहीं कि आप उन्हें बेच दें। साथ ही, वह लोगों को सुझाव देते हैं कि निवेश करने से पहले आप अपनी एग्ज़िट रणनीति पहले ही तैयार कर लें। 

इन तीनों के अलावा भारत के सबसे सफल स्टॉक मार्केट निवेशकों की लिस्ट में रामदेव अग्रवाल, नेमिश शाह, विजय केड़िया, चंद्रेश निगम, चैतन्य डालमिया, चंद्रकांत संपत, पराग पारीख, डॉली खन्ना और संजय बख्शी का नाम आता है। 

Connect With Us
Facebook
Facebook
Instagram
LinkedIn
Tags: No tags

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *