BAKS CLOTHING CO. (3)

शेयर खान के अनुसार: ख़रीदे नौ महीने बाद मुनाफे में लौटी इन कंपनियों के शेयर, मिलेगा फायदा !!

सितंबर तिमाही के कंपनियों के नतीजे मिलेजुले रहे।  जहां ऑटो, फार्मा, तेल, पेंट और चुनिंदा वित्तीय कंपनियों पर दबाव नजर आया वहीं, मेटल, आईटी और कंज्यूमर कंपनियों ने अच्छा प्रदर्शन किया। सितंबर तिमाही में करीब आठ कंपनियों ने बीती दस तिमाही में पहली दफा मुनाफा कमाया।  इसमें बैंक ऑफ महाराष्ट्र, इम्पेक्स फेरो टेक, यशराज कनटेनर्स, एसटीआई इंडिया, सोनल एडहेसिव्स, रियल स्ट्रिप्स, सिम्प्लेक्स रियल्टी और विजय लक्ष्मी इंजीनियरिंग वर्क्स शामिल हैं।

मगर क्या इन नतीजों के बाद इन कंपनियों के शेयरों में निवेश करना चाहिए? इनमें से कुछ कंपनियों के शेयरों ने तेजी दिखानी शुरू कर दी है।  सोनल के शेयरों ने इस साल 16 फीसदी की छलांग लगाई है, जबकि कुछ शेयर 38 से 45 फीसदी गिरे हैं. विश्लेषक निवेशकों को इस बारे में आगाह कर रहे हैं।  उनके अनुसार संभव है कि इन कंपनियों को कम खर्च, घटे कर्ज आदि की वजह से मुनाफा हुआ हो।  ऐसे में निवेशकों को जल्दबाजी के बजाय एक से दो तिमाही का इंतजार और करना चाहिए।

शेयरखान के रिसर्च प्रमुख गौरव दुआ ने कहा, “घाटे में चल रही कंपनियों के मुनाफा में आने के चुनिंदा कारण हो सकते हैं।  उन्हें एक दफा बड़ी आय मिल सकती है, विदेशी कारोबार से लाभ हो सकता है या एसेट/इंवेंट्री की बिक्री से भी लाभ हो सकता है। निवेशकों को समझना होगा कि लंबे समय तक घाटे के बाद मुनाफा क्यों हुआ। ”

उन्होंने कहा कि निवेशकों यह भी जानना चाहिए कि क्या यह लाभ लंबे समय तक जारी रहेगा।  निवेशकों को कंपनी के नकद प्रवाह, प्रंबधन गुणवत्ता आदि पर भी गौर करना चाहिए। निवेशकों को हर मानकों पर ध्यान देना चाहिए।

सरकारी बैंक बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने सिंतबर तिमाही में 27 करोड़ रुपये का नेट प्रॉफिट कमाया । पिछली सितंबर तिमाही में बैंक ने 23.24 करोड़ रुपये का नेट लॉस दर्ज किया था।  जून तिमाही में बैंक को 1,119 करोड़ रुपये का नेट लॉस हुआ था।  बैंक की नेट आय 3,192 करोड़ रुपये तक फिसल गई थी।बैंक का एनपीएस स्तर 18.54 फीसदी से बढ़कर 18.64 फीसदी तक पहुंच गया।  इम्पेक्स फेरो टेक ने 0.80 करोड़ रुपए का मुनाफा कमाया, जो पिछले साल 2.70 करोड़ रुपये का नेट लॉस था।  कंपनी ने मार्च तिमाही में 32.30 करोड़ रुपये और जून तिमाही में 7.50 करोड़ रुपये का नेट लॉस दर्ज किया ।

यशराज कनटेनर्स का नेट प्रॉफिट 1.50 करोड़ रुपये रहा, जबकि बीते वर्ष की दूसरी तिमाही में 2 करोड़ रुपये का नेट लॉस हुआ था। एसटीआई इंडिया का नेट प्रॉफिट 4.90 करोड़ रुपये रहा, जबिक कंपनी ने पिछले साल 1.20 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा दर्ज किया था।

सोनल और रियल स्ट्रिप्स ने क्रमश: 0.40 करोड़ रुपये और 9 करोड़ रुपये का नेट प्रॉफिट दर्ज किया, जबकि दोनों कंपनियों ने क्रमश: 0.40 करोड़ रुपये और 8.70 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा देखा था. सिम्प्लेक्स रियल्टी और विजय लक्ष्मी इंजीनियरिंग वर्क्स की कहानी भी ऐसी रही।
यशराज कंटेनर्स (74 फीसदी ऊपर), एसटीआई इंडिया (85 फीसदी ऊपर) और रियल स्ट्रिप्स (40 फीसदी ऊपर) के अलावा बाकी कंपनियों का रेवेन्यू 67 फीसदी तक घटा । कैमलिन फाइन साइंसेज ने भी नौ तिमाही में पहली दफा मुनाफा देखा। कंपनी ने 1.30 करोड़ रुपये का लाभ हासिल किया, जो पिछले साल इसी तिमाही में 4.10 करोड़ रुपये का नेट लॉस था. कंपनी की बिक्री साल-दर-साल की तुलना में 37.80 फीसदी बढ़ी।

एमके ग्लोबल ने कैमलिन फाइन साइंसेज कोर 183 रुपये के टार्गेट प्राइस के साथ खरीदने की सलाह दी है।  इसके अलावा रिलायंस कम्युनिकेशंस, ओरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, जमश्री रणजीतसिंहजी स्पिनिंग एंड वीविंग मिल्स ने भी आठ तिमाही के बाद पहली बार मुनाफे का जयका चखा।

No Fields Found.
Connect With Us
Facebook
Facebook
Instagram
LinkedIn
Tags: No tags

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *