BAKS CLOTHING CO. (9)

Retirement fund : इस तरीके से करेंगे अगर आप इन्वेस्ट तो रिटायरमेंट से पहले जुटा सकते है 5 करोड़ तक का फंड!!

क्या Retirement fund जुटाने के लिए हम 40 या 50 साल की उम्र में सोचना शुरू करते हैं? कर्इ फाइनेंशियल प्लानर और म्यूचुअल फंड एडवाइजर यही मानते हैं। उनका कहना है कि तमाम जानकारियों के बावजूद बहुत कम लोग ही करियर की शुरुआत में रिटायरमेंट प्लान को गंभीरता से लेते हैं।ज्यादातर लोग जो इन प्लानर और एडवाइजरों के पास मदद के लिए पहुंचते हैं, उनकी उम्र 40 से 50 साल के बीच होती है।

सृजन फाइनेंशियल एडवाइजर्स की संस्थापक दीपाली सेन कहती हैं, “रिटायरमेंट प्लानिंग के लिए तमाम निवेशक हमारे पास पहुंचते हैं।इनमें से ज्यादातर की उम्र 40 से 50 साल की होती है। हर गुजरते साल के साथ रिटायरमेंट प्लानिंग कठिन होती जाती है। मैं हमेशा अपने क्लाइंट से दो बातें जरूर सुनिश्चित करने के लिए कहती हूं।वे हैं इमर्जेंसी और रिटायरमेंट फंड बनाना. निवेश की शुरुआत करते हुए ज्यादातर लोगों के दिमाग में रिटायरमेंट का ख्याल नहीं रहता है.” क्यों एक्सपर्ट Retirement fund जुटाने के लिए करियर की शुरुआत में ही प्लानिंग की बात करते हैं?

यह भी पढ़ें- राकेश झुनझुनवाला ने की ये 11 गलतियां और आज बन गए करोडो के मालिक !!

सर्टिफाइड फाइनेंशियल प्लानर पंकज गेरा कहते हैं, “पहला, आप अपने रिटायरमेंट के जितने करीब होंगे, आपको कम अवधि में ज्यादा निवेश की जरूरत होगी। दूसरा, हाथ में 7-10 साल भी न होने पर इक्विटी में निवेश जोखिम भरा होता है। इक्विटी के बिना निवेश को बढ़ाना मुश्किल होता है। तीसरा, रिटायरमेंट बेहद महत्वपूर्ण वित्तीय लक्ष्य है। यदि निवेश के लिए 20-25 साल हैं तो जोखिम को कम करना भी बहुत आसान हो जाता है।”

आइए, इसे एक उदाहरण से समझते हैं। राम ने 22 साल की उम्र से नौकरी शुरू कर दी. तुरंत ही उसने सिप के जरिए हर महीने मिडकैप म्यूचुअल फंड स्कीम में 5,000 रुपये का निवेश शुरू किया।उसने निवेश के लिए मिडकैप म्यूचुअल फंड चुना. कारण है कि वह अपने निवेश के साथ जोखिम ले सकता है। उसके पास निवेश के लिए 30 साल हैं। यदि राम अगले 30 साल तक निवेश को जारी रखता है तो वह अपने निवेश पर 15 फीसदी रिटर्न के हिसाब से 1.76 करोड़ रुपये का Retirement fund जुटा लेग।

यह भी पढ़ें- Gold Investment : अगर करते है गोल्ड के इंवेस्टमेंट्स तो यह मार्केट हो सकता है सबसे सेफ !!

तब क्या होगा यदि राम 10 साल बाद यानी 32 साल में रिटायरमेंट के लिए निवेश शुरू करे? 15 साल का सालाना रिटर्न मानते हुए वह 20 साल के अंत में 49 लाख रुपये जुटा पाएगा।

तब क्या होगा यदि राम 40 के पड़ाव में अपने रिटायरमेंट के लिए निवेश शुरू करे? 15 फीसदी का सालाना रिटर्न मानते हुए वह 10 साल के अंत में 11.61 लाख रुपये जुटा पाएगा।

जैसा कि आप देख सकते हैं कि हाथ में समय होने से चक्रवृद्धि ब्याज दर की ताकत आपकी दौलत को कर्इ गुना बढ़ा देती है. यही कारण है कि कुछ इसे दुनिया का आठवां अजूबा कहते हैं। ध्यान रखें कि ये कैलकुलेशन केवल तुलना के लिए हैं. किसी को भी इस तरह से रिटायरमेंट के लिए प्लान नहीं करना चाहिए। इसके लिए सबसे पहले देखना चाहिए कि आपको कितने रिटायरमेंट फंड की जरूरत है। फिर इसे पाने के लिए निवेश के विकल्पों को चुनना चाहिए।

यह भी पढ़ें- Rakesh Jhunjhunwala Biography: जानिये कैसे राकेश झुनझुनवाला ने 10 हज़ार से बनाये 16000 हज़ार करोड़ रुपये !!

म्यूचुअल फंड सलाहकार कहते हैं कि रिटायरमेंट फंड को तैयार करने में समय बेहद अहम है। उनका कहना है कि नौकरी की शुरुआत करते ही रिटायरमेंट की प्लानिंग शुरू कर देनी चाहिए।दीपाली सेन कहती हैं, “दौलत बनाने में समय का होना जरूरी है। जल्दी शुरुआत करने से कंपाउंडिंग का फायदा मिलता है। हम हमेशा निवेशकों से कहते हैं कि जब से वे अन्य वित्तीय लक्ष्यों के लिए निवेश की शुरुआत करते हैं तभी से उन्हें रिटायरमेंट के लिए भी निवेश शुरू कर देना चाहिए।”

No Fields Found.
Connect With Us
Facebook
Facebook
Instagram
LinkedIn
Tags: No tags

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *