how to purchase shares in Hindi for new investors.

जानिये शेयर मार्केट में नए इन्वेस्टर शेयर कैसे खरीद सकते है !!

शेयर कैसे खरीदें क्या है प्रक्रिया शेयर खरीदने की। शेयर खरीदने के लिये हमारे पास क्या क्या होना चाहिये यह सब समझते हैं। अब जब आपको पता चल गया कि शेयर मार्केट क्या है और शेयर क्या हैं और आप ने शेयर बाजार से जुड़े रिस्क को भी समझ लिया है तो जानते हैं शेयर कैसे खरीदें और बेचें आसान हिंदी में। सात ही समझते हैं शेयर खरीदने और बेचने की सारी प्रक्रिया। 

शेयर कैसे खरीदें और शेयर खरीदने की प्रक्रिया :-

पहला कदम :- जब कोई व्यक्ति किसी कंपनी के शेयर खरीदता है तो उसे शेयर होल्डर के अधिकार जैसे कि लाभांश प्राप्त करने और कंपनी के अंश-स्वामित्व का अधिकार मिलते हैं। शेयर खरीदने के लिए पहला कदम एक ट्रेडिंग एकाउंट और डीमैट एकाउंट खोलना होता है। पेमेंट लेने और देने के लिए ये एकाउंट खाता धारक के बैंक बचत खातों से जुड़े होते हैं। ब्रोकरेज फर्मों के माध्यम से डीमैट और ट्रेडिंग खाते एनएसडीएल और सीडीएसएलएनएसई द्वारा प्रदान किए जाते हैं। इन्हें डिपॉजिटरीज कहते हैं।

डाउनलोड करे शेयर मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे शेयर मार्केट में किया जाता है काम

ब्रोकरेज फर्म:- इन खातों को खोलने के लिए किसी भी ब्रोकरेज फर्म से संपर्क किया जा सकता है। विभिन्न ब्रोकरेज फर्म हैं और प्रत्येक की अपनी अलग अलग ब्रोकरेज योजनाएं हैं। इन योजनाओं कई प्रकार के शुल्क लगते हैं जो आम तौर पर 0.01 प्रतिशत से 0.05 प्रतिशत तक होते हैं। कुछ ब्रोकरेज फ्लैट दरों पर चार्ज करते हैं। ब्रोकर्स को बुद्धिमानी से और अत्यधिक देखभाल के साथ चुना जाना चाहिये। कई बैंक थ्री इन वन एकाउंट खोलते हैं जिसके अंतर्गत सेविंग एकाउंट, ट्रेडिंग एकाउंट और डीमैट एकाउंट एक साथ खोले जाते हैं।

डाउनलोड करे शेयर मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे शेयर मार्केट में किया जाता है काम

ट्रेडिंग एकाउंट:- आपके ट्रेडिंग एकाउंट के द्वारा आप शेयर खरीदने के लिये आप ऑर्डर दे सकते हैं। ऑर्डर देने से पहले आपके बैंक खाते में उतनी राशी होना आवश्यक है जितने के आप शेयर खरीद रहे है। याद रखे कि शेयर खरीदने के लिये न्यूनतम राशि कुछ भी हो सकती है। आप यह ऑर्डर ऑनलाइन या ब्रोकर के ट्रेडिँग प्लेटफॉर्म पर कर सकते हैं। आप फोन पर भी ब्रोकर फर्म को ऑर्डर दे सकते हैं।

शेयर खरीदना:- आप अपना ऑर्डर दो तरह से दे सकते हैं मार्केट रेट या लिमिटेड रेट। मार्केट रेट का मतलब है जिस किसी रेट पर शेयर बाजार में ट्रेड कर रहा है उसी रेट पर खरीद लिया जाये। लिमिटेड रेट में आप सीमा बता सकते हैं जिस से आधिक रेट होने पर शेयर नहीं खरीदना है। शुरुआत में ब्लूचिप, लार्ज कैप और FMCG शेयर ही चुनें, आमतौर पर इन शेयरों में रिस्क कम रहता है। अनुभव मिलने पर ऐसे शेयर भी चुन सकते हैं जिनके multibagger बनने की संभावना हो।

डाउनलोड करे शेयर मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे शेयर मार्केट में किया जाता है काम

डीमैट एकाउंट:- आप अपना ऑर्डर दो तरह से दे सकते हैं मार्केट रेट या लिमिटेड रेट। मार्केट रेट का मतलब है जिस किसी रेट पर शेयर बाजार में ट्रेड कर रहा है उसी रेट पर खरीद लिया जाये। लिमिटेड रेट में आप सीमा बता सकते हैं जिस से आधिक रेट होने पर शेयर नहीं खरीदना है।

शेयर बेचना:- शेयर बेचने की प्रक्रिया इस से उलटी है। आप जो शेयर बेचना चाहते हैं वह शेयर आपके डीमैट खाते में होना जरूरी है। जैसे ही आप शेयर बेचेंगे, डीमैट खाते से शेयर हट जायेंगे और तीसरे दिन (खरीदे गये शेयर की श्रेणी पर निर्भर) आपके बैंक खाते में बेचे गये शेयरों की राशी ब्रोकरेज कट कर पहुंच जायेगी।

 शेयर बाजार के बारे में अधिक जानकारी के लिये व्हाट्सऐप करे +917581030295

Connect With Us
Facebook
Facebook
Instagram
LinkedIn
Tags: No tags

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *