BAKS CLOTHING CO. (2)

डीमैट अकाउंट खोलने से पहले जान लें ये जरूरी बातें !!

ज्यादातर फाइनैंशल प्लानर्स का मानना है कि अगर आप इक्विटी में निवेश करना चाहते हैं तो सीधे शेयर खरीदने की जगह म्यूच्यूल फंड्स के जरिए निवेश करना बेहतर होता है। हालांकि इकनॉमिक टाइम्स की हालिया रिपोर्ट के अनुसार वित्त वर्ष 2017-2018 में 37.6 करोड़ नए डीमैट अकाउंट खोले गए हैं। इससे पहले 2007-2008 में 3 लाख अकाउंट खोले गए थे। जानिए डीमैट अकाउंट खोलने से जुड़ी जरूरी बातें…

डाउनलोड करे शेयर मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे शेयर मार्केट में किया जाता है काम

ऑनलाइन इन्वेस्टमेंट के लिए एचडीएफसी सिक्यॉरिटी, आईसीआईसीआई डायरेक्ट, ऐक्सिस डायरेक्ट, फायर्स आदि की मदद से एक ब्रोकिंग अकाउंट खोला जा सकता है। ये ब्रोकिंग फर्म या तो डिस्काउंट ब्रोकर होते हैं या सर्विस ब्रोकर। इन दोनों में अंतर प्रॉडक्ट्स और सर्विसेज के संदर्भ में होता है। 

निवेश करने के लिए आपके पास तीन चीजें होनी चाहिए- बैंक अकाउंट, ट्रेडिंग अकाउंट और डीमैट अकाउंट। डीमैट अकाउंट ट्रेडिंग अकाउंट जैसा ही होता है। आप यह अकाउंट ऑनलाइन भी खोल सकते हैं। ऑनलाइन अकाउंट खोलने के लिए आधार कार्ड अनिवार्य होता है। 

डाउनलोड करे शेयर मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे शेयर मार्केट में किया जाता है काम

आप अपने बैंक सेविंग्स अकाउंट से फंड ट्रांसफर कर सकते हैं। आप अपने ट्रेडिंग अकाउंस से भी सिक्यॉरिटीज खरीद और बेच सकते हैं। डीमैट अकाउंट एक ऐसा बैंक है जिसमें खरीदे गए शेयर जमा होते हैं और जहां से शेयर बेचने के लिए निकाले जाते हैं। 

डीमैट अकाउंट और ट्रेडिंग अकाउंट एक ही इंस्टिट्यूशन से हो तो डिलवरी इंस्ट्रक्शन स्लिप (DIS) की मदद से शेयरों की ऑफलाइन खरीद या बिक्री आसान हो जाती है। DIS बैंक के चेक जैसा ही होता है। 

आपको बस ध्यान रखना होगा कि आप हर ट्रांजैक्शन के लिए पे करते हैं, इसलिए यह आप पर निर्भर करता है कि आप जल्दी-जल्दी ट्रेड करना चाहते हैं या लंबे समय तक निवेश करना चाहते हैं। 

डाउनलोड करे शेयर मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे शेयर मार्केट में किया जाता है काम

आप उसी प्लान को चुनें जो आपकी जरूरत के अनुसार हो। इसमें सबसे बेसिक प्लान फ्लैट प्राइसिंग बेसिक प्लान होता है। इस प्लान में ब्रोकरेज हमेशा एक जैसा बना रहता है। 

एक अकाउंट खोलते वक्त आपको सिक्यॉरिटी की ट्रांसफर, ट्रेड के सेटलमेंट, क्लाइंट के बैंक अकाउंट से फंड लेने और ब्रोकर से अमाउंट रिकवर करने के लिए स्पेसिफिक पावर ऑफ अटॉर्नी पर भी साइन करना होता है। इस पीओए में बैंक और डीमैट अकाउंट से जुड़ी जानकारियां होती हैं। 

एक बार जब आपको निवेश से जुड़े बेसिक रूल्स पता चल जाए तो आप शॉर्ट टर्म इन्वेस्टमेंट की जगह लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट को चुने और हमेशा सही फैसला ले। 

Connect With Us
Facebook
Facebook
Instagram
LinkedIn
Tags: No tags

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *