Confusion of Confusions

Confusion of Confusions : शेयर मार्केट पर लिखी गयी 330 साल पुरानी किताब की इतने करोड़ में नीलामी होने की उम्मीद !!

अगर शेयर बाजार आपको कन्फ्यूज करता है तो आप ऐसे अकेले शख्स नहीं हैं। सच तो यह है कि ऐसा सदियों से होता आ रहा है। शायद इसीलिए शेयर बाजार पर लिखी पहली किताब का नाम ‘confusion of confusions’ था। जोसेफ पेंसो डि ला वेगा ने 1688 में यह किताब लिखी थी।यह किताब 1602 में स्थापित दुनिया के पहले एम्सटर्डम एक्सचेंज पर आधारित है। सोदबी ऑक्शन हाउस इस किताब की नीलामी कर रही है। इसके डेढ़ से दो करोड़ में बिकने उम्मीद है। जीविश (यहूदी) थियोलॉजिकल सेमिनरी इस किताब को बेच रही है।

स्पेन के रहने वाले थे वेगा: वेगा मूलतः स्पेन के रहने वाले थे। 17वीं सदी की शुरुआत में ही वह एमस्टर्डम आ गए थे। उन्होंने यह किताब स्पेनिश भाषा में लिखी थी। इसमें स्टॉक मार्केट में इस्तेमाल होने वाले पुट और कॉल जैसे शब्दों की व्याख्या करने के साथ निवेश के सुझाव भी दिए गए हैं। किताब एक फिलॉस्फर, कारोबारी और शेयरहोल्डर के बीच बातचीत के रूप में लिखी गई है।

यह भी पढ़े यह है वो बातें जो आपको एक नयी कंपनी के शेयर खरीदते वक़्त ध्यान में रखना चाहिए !!

वेगा ट्रेडर नहीं थे: सोदबी में बुक्स और मैन्युस्क्रिप्ट डिपार्टमेंट के विशेषज्ञ सेल्बी किफर ने बताया कि वेगा ट्रेडर नहीं थे, लेकिन उनका ज्यादा समय शेयर मार्केट में ही बीतता था। सोदबी इसके पहले संस्करण की नीलामी कर रही है। इस किताब की 10 से भी कम प्रतियां दुनिया में उपलब्ध हैं। पहले संस्करण की पिछली नीलामी 30 साल पहले सोदबी ने ही की थी। तब यह 16,500 पाउंड (अब 20 लाख) में बिकी थी

No Fields Found.

Download Our Free E Book Now

Connect With Us
Facebook
Facebook
Instagram
LinkedIn
Tags: No tags

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *