bse-770x433

बरगद के पेड़ के नीचे 5 लोगों ने शुरू किया था भारत के इस स्टॉक एक्सचेंज को !!

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज सेंसिटिव इंडेक्स (बीएसई सेंसेक्स) लाखों भारतीयों की जीवन रेखा है। इसे बीएसई-30 या सिर्फ सेंसेक्स के नाम से भी जाना जाता है। भारतीय पूंजी बाजार के विकास में इस एक्सचेंज की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। इसके सूचकांक पर दुनियाभर की निगाहें रहती हैं। भारत के अलग-अलग सेक्टर्स की तीस प्रमुख, सक्रिय और वित्तीय रूप से मजबूत कंपनियां इस बाजार का संचालन करती हैं। ये कंपनियां भारतीय अर्थव्यवस्था का भी प्रतिनिधित्व करती हैं।

पांच हजार कंपनियां

जर्मनी स्थित ड्यूश बोर्स और सिंगापुर एक्सचेंज बीएसई के स्ट्रेटेजिक पार्टनर के रूप में जुड़े हुए हैं। बीएसई में पांच हजार से अधिक कंपनियां रजिस्टर्ड हैं। इस लिहाज से ये दुनिया का सबसे बड़ा एक्सचेंज है। पिछले 139 साल से बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज भारतीय बाजार की पूंजी व्यवस्था का निर्धारण कर रहा है।

डाउनलोड करे शेयर मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे शेयर मार्केट में किया जाता है काम

कैसे अस्तित्व में आया बीएसई

एशिया के इस सबसे पुराने एक्सचेंज की स्थापना का श्रेय उन चार गुजराती और एक पारसी शेयर ब्रोकर्स को जाता है, जो 1850 के आसपास अपने कारोबार के सिलसिले में मुंबई (तब बॉम्बे) के टाउन हॉल के सामने बरगद के एक पेड़ के नीचे बैठक किया करते थे। इन ब्रोकर्स की संख्या साल-दर-साल लगातार बढ़ती गई। 1875 में इन्होंने अपना ‘द नेटिव शेयर एंड स्टॉक ब्रोकर्स एसोसिएशन’ बना लिया। साथ ही दलाल स्ट्रीट पर एक ऑफिस भी खरीद लिया। आज इसे बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज कहा जाता है।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया (एनएसई) भी भारत का प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज है। इसकी स्थापना 1990 में डिमिचुअल इलेक्ट्रॉनिक एक्सचेंज के रूप में की गई थी। विभिन्न सेक्टर्स की शीर्ष कंपनियां इसका संचालन करती हैं। इसमें 1600 से अधिक कंपनियां रजिस्टर्ड हैं। वर्ल्ड फेडरेशन ऑफ एक्सचेंज दुनिया के एक्सचेंज सिस्टम को नियंत्रित करने के लिए वर्ल्ड फेडरेशन ऑफ एक्सचेंज बनाया गया है। इसका मुख्यालय पेरिस में है। दुनिया के प्रमुख 62 स्टॉक एक्सचेंज इसके सदस्य हैं। इनमें से बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज भी एक है।

डाउनलोड करे शेयर मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे शेयर मार्केट में किया जाता है काम

खात बातें-

=> 25 जनवरी, 2001 को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) ने डॉलेक्स-30 लॉन्च किया था। इसे बीएसई का डॉलर लिंक्ड वर्जन कहा जाता है।

=> 11वां दुनिया का सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज मार्केट है बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज। यह खिताब बीएसई को बाजार पूंजी के आधार पर मिला है।

=> 1.32 ट्रिलियन की कुल बाजार पूंजी को बीएसई संचालित करता है। नंबर ऑफ ट्रांजेक्शन्स के हिसाब से बीएसई दुनिया का पांचवां बड़ा एक्सचेंज है।

भारत के वारेन बफेट

मुंबई के राकेश झुनझुनवाला को सबसे सक्रिय बुल ट्रेडर माना जाता हैं। इन्हें लोग भारत का वारेन बफेट कहते हैं। वे जिस कंपनी का शेयर खरीद लेते हैं, उसके भाव अपने आप ही बढ़ जाते हैं। झुनझुनवाला हंगामा डिजिटल मीडिया इंटरटेनमेंट के चेयरमैन भी हैं।

कहां से आए बुल और बीअर?

स्टॉक मार्केट के प्रचलित शब्द बीअर और बुल कहां से आए, इसको लेकर अलग-अलग मान्यताएं हैं, जो कुछ इस तरह हैं।

बुल

बुल शब्द के पीछे धारणा यह है कि बुल यानी सांड हमेशा सींग ऊपर करके हमला करता है, इसलिए इसे उछाल और लाभ वाले बाजार का प्रतीक माना गया होगा। एक धारणा यह भी है कि 17 वीं शताब्दी में ब्रिटेन के लंचियन क्लब में बुल की प्रतिमा लगी होती थी। ऐसा अंधविश्वास था कि जिस दिन बुल प्रतिमा के सींगों से हाथों को रगड़ा जाता था, उस दिन व्यवसाय में फायदा होता था। शायद इसीलिए बाद में तेजडिय़ों के लिए ‘बुल’ प्रतीक का इस्तेमाल किया गया होगा।

डाउनलोड करे शेयर मार्केट फ्री इ बुक और सीखे कैसे शेयर मार्केट में किया जाता है काम

बीअर

बुल से पहले बीअर शब्द प्रचलन में आया। अमेरिका स्थित फाइनेंशियल सर्विसेज कंपनी मोटली फुल की मानें तो बीअर यानी भालू जब किसी चीज पर झपटता है तो उसके पंजे नीचे की ओर होते हैं, इसीलिए बीअर को गिरावट का प्रतीक मानते हैं। एक धारणा यह भी है कि 17 वीं शताब्दी में भालू की स्किन बेचने वाले भालू को पकडऩे से पहले ही सौदा कर लेते थे। ऐसे में यदि बाजार में स्किन के दाम कम हो जाते हैं तो भी भालू पकडऩे वाले को पूरा पैसा देना पड़ता। इसे घाटे का सौदा मानते थे, इसीलिए बीअर ट्रेडिंग शब्द प्रचलित हुआ होगा।

Connect With Us
Facebook
Facebook
Instagram
LinkedIn
Tags: No tags

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *